माखनलाल पत्रकारिता यूनिवर्सिटी के विशेष व्याख्यान में शामिल हुए फीमिट्स के छात्र, जर्नलिज्म की डूबती नैया पर चर्चा

Students of FEMITS attend special lecture of Makhanlal Journalism University drowning of journalism

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में माखन लाल पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में “विशेष व्याख्यान” का आयोजन सोमवार को किया गया है। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में देश के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेई मौजूद रहे हैं। जिसमें लखनऊ से आए फीमिट्स कॉलेज के छात्रों ने भी प्रतिभाग किया है। पत्रकारिता के कल, आज और भविष्य के कल पर बाजपेई ने अपने विचार पेश लिए है।

पुण्य प्रसून बाजपेई ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, की जर्नलिज्म का पहला सूत्र है, कुर्सी छोड़ना पड़ेगा। आपको फील्ड में जाना पड़ेगा, आपको मामले से अपने आप को जोड़ना पड़ेगा। समाज की समस्या को अपनी समस्या समझनी पड़ेगी, तभी पत्रकारिता का वास्तविक स्वरूप निकल के क्रियान्वित होगा। भविष्य के पत्रकारिता का माध्यम आपके हाथों का फोन होगा।

लखनऊ से आए हुए फिमिट्स के छात्रों ने वाजपेई जी के विचार बड़े ध्यान से सुने। और पत्रिका के वर्तमान हालातों पर आपस में चर्चा के साथ समीक्षा करने का प्रयास किए हैं। इस दौरान छात्रों के साथ में फिमिट्स के अध्यापक बी जी वर्मा, उदित नारायण और पत्रकारिता के छात्रों में ऋषि राज, अवनीश पांडे, आयुष श्रीवास्तव, प्रतीक, विकास द्विवेदी उपस्थित रहे हैं।

लेखक-विकास धर द्विवेदी

ये भी पढ़े-

दिल्ली ने अरविंद केजरीवाल में क्या देखा, कि उसे फिर से सत्ता में बैठा दिया?

पाकिस्तान भीख मांगने की कगार पर पहुंचा, अंतरराष्ट्रीय संगठन करेगा ब्लैक लिस्ट

महात्मा गांधी के सत्य के प्रयोग: इस तरह सत्याग्रह शब्द की हुई थी उत्पत्ति

सोशल मीडिया पर लगातार Hindi News अपडेट पाने के लिए आप हमसें FacebookTwitterInstagram समेत You tube चैनल पर भी जुड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here