संपादक और जनसंवाद चौपाल से मीडिया महोत्सव 2020 का हुआ समापन

Media Festival 2020 concludes with Editor and Publicism Chaupal

भोपाल: राजधानी में चल रहे तीन दिवसीय मीडिया फेस्टिवल का समापन रविवार को हो गया। मीडिया से खत्म होती संपादकों की भूमिका पर और जनसंवाद का क्या रूप हो? इस पर विशेषज्ञों ने चर्चा की है। सीएसआर- एनजीओ चौपाल में सरकार और समाजसेवी संस्थाओं में संबंध, फंड इत्यादि विषयों पर बातचीत हुई है। इसी के साथ इस साल के मीडिया महोत्सव का समापन हुआ है, वहीं अगले साल यह महोत्सव मुंबई में आयोजित किया जाएगा।

मीडिया में सम्पादक का होना शरीर में आत्मा के समान माना जाता है। संपादक स्वयं में एक परिवार है, जिसके अधिकार बाजार की चुनौतियों के समक्ष निरंतर लड़ना होता है। बिना संपादक की सोशल मीडिया की दशा ऐसी है कि आज फेक न्यूज़ कि पूरे देश में एक बीमारी फैली हुई है। इसी तरह मीडिया के सभी माध्यमों में संपादक की भूमिका महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक मानी जाती हैं।

संपादक चौपाल में मुख्य रूप से उमेश त्रिवेदी, हेमंत शर्मा, एन. के. सिंह , राजेन्द्र शर्मा, विजयदत्त श्रीधर, डा. राधेश्याम शुक्ल, सुनीता एरोन, गिरीश उपाध्याय, शिव अनुराग पटेरिया, रमेश शर्मा, जयदीप कर्णिक आदि संपादकों ने मीडिया में गुम होते संपादकों पर विचार रखें हैं। सीएसआर-एनजीओ चौपाल का संयोजन तृप्ति सिंह, अमित जोशी, रुपाली अवाधे ने किया है।

जनसंवाद चौपाल की अध्यक्षता के एन गोविंदाचार्य ने की है। मुख्य अभ्यागत के रूप में पद्मश्री श्रीमती फूलबासन बाई यादव (वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता ) वहीं विमर्श में रघु ठाकुर (वरिष्ठ राजनीतिज्ञ), आर्क बिशप लियो कार्निलियो, प्रो. मोहम्मद शब्बीर (पूर्व कुलपति), मौलाना सुहैब कासिमी (राष्ट्रीय अध्यक्ष, जमात उलेमा ए हिन्द) उपस्थित रहे हैं। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद रहे हैं।

लेखक- विकास द्विवेदी

ये भी पढ़े-

दिल्ली ने अरविंद केजरीवाल में क्या देखा, कि उसे फिर से सत्ता में बैठा दिया?

पाकिस्तान भीख मांगने की कगार पर पहुंचा, अंतरराष्ट्रीय संगठन करेगा ब्लैक लिस्ट

महात्मा गांधी के सत्य के प्रयोग: इस तरह सत्याग्रह शब्द की हुई थी उत्पत्ति

सोशल मीडिया पर लगातार Hindi News अपडेट पाने के लिए आप हमसें FacebookTwitterInstagram समेत You tube चैनल पर भी जुड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here