जीवनदायिनी गंगा की अब सुधर रही हालत, लेकिन जागरूकता की आवश्यकता अब भी

Life of Ganges is improving now but the need for awareness is still there

हजारों सालों से स्वच्छ और निर्मल जल युक्त बहने वाली हमारी नदियां अब अनियंत्रित प्रदूषण से ग्रस्त होकर अपनी जीने के लिए संघर्ष कर रही है. उपयोग करके फेंक दो, के फार्मूले नें गंगा मैया को भी नहीं छोड़ा है. हालांकि गंगा नदी की स्थिति सुधरती नजर आ रही है.

भारत सरकार ने इस को सुधारने में कई बड़े प्रयास किए है. प्रधानमंत्री मोदी ने जून 2014 में नमामि गंगे परियोजना का आरंभ किया और उसके लिए 20 हजार करोड़ रुपए का बजट दिया. यूपी में पिछली सरकारों की उदासीनता को योगी सरकार ने तोड़ते हुए गंगा की स्वच्छता और निर्मलता सुनिश्चित करने के लिए मोदी सरकार के लक्ष्यों को आवश्यक गति और दिशा दी है. अप्रैल 2017 में कानपुर व कन्नौज में स्थित चमड़े के कारखानों को समयबद्ध योजना के तहत अन्य स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया. इससे कुछ हद पर गंगा में गिर रहे कचरे पर लगाम पाया गया.

वही यूपी की सरकार द्वारा गंगा यात्रा से नदियों की स्वच्छता सुनिश्चित करने की दिशा में एक विशिष्ट प्रयास है और इसके माध्यम से भारत के नागरिक प्राकृतिक व पर्यावरण में अपने तत्व कर्तव्य के प्रति जिम्मेदार बनेंगे. आने वाली भावी पीढ़ी को एक नजीर मिलेंगी.

ये भी पढ़े –

पांचवे खजुराहो इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में चम्बल की धूम

Kajal Raghwani Sexy Photo Video: भोजपुरी एक्ट्रेस काजल राघवानी ने शेयर की सेक्सी फोटो, देखे हॉटनेस वीडियो

Manisha koirala Sexy Video: मनीषा कोइराला के सेक्सी वीडियो और फोटेज देखकर हैरान रह गए फैंस

सोशल मीडिया पर लगातार Hindi News अपडेट पाने के लिए आप हमसें FacebookTwitterInstagram समेत You tube चैनल पर भी जुड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here