सावधान! ऑफिस में नाईट शिफ्ट में काम करने पर मानसिक रोग का बढ़ा खतरा

night sift

अगर आप रात की शिफ्ट करते है तो सावधान रहने की जरुरत है, क्योंकि मोटापे और डायबीटीज का जोखिम पहले ही होता है। लेकिन एक नए शोध में दावा किया गया है कि इस जोखिम से लोग मानसिक रोगी भी हो सकते हैं। नए अध्ययन से पता चलता है कि ऐसी दिनचर्या वाले लोग जिनकी नींद में खलल पड़ता है, उनमें अवसाद और चिंता की समस्या 9 से 5 बजे वाली शिफ्ट की तुलना में अधिक होती है।

इनकी तुलना में शिफ्ट में काम करने वाले लोगों में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित होने की संभावना 28 प्रतिशत अधिक है। यह परिणाम पिछले 7 अध्ययनों में शामिल 28,438 प्रतिभागियों की जांच करने के बाद सामने आया है। ब्रिटेन की एक यूनिवर्सिटी में शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन से पता चला है कि शिफ्ट में काम करने वालों को अवसाद होने की संभावना 33 प्रतिशत अधिक थी, विशेष रूप से, उन लोगों की तुलना में जो रात में काम नहीं करते थे।

कैसे निपटे
शोधकर्ता ने यह भी कहा कि व्यायाम के लिए समय निकालने, दिन के उजाले के दौरान बाहर जाने और परिवार-दोस्तों के साथ समय बिताने से सामाजिक अलगाव को सीमित करने से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार किया जा सकता है। व्यायाम से आप ड्यूटी के लिए तरोताजा महसूस करेंगे साथ ही मेंटल लेवल पर भी आपको अच्छा लगेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here