कमर के दर्द का कारण कहीं कमजोर रीढ़ की हड्डी तो नहीं, ऐसे पाए राहत

bavk paint

डॉक्टर्स के अनुसार पीठ और कमर दर्द का एक बड़ा कारण रीढ़ की हड्डी में कमजोरी होती है। कई दैनिक आदतों के कारण रीढ़ कमजोर हो जाती है। अगर आप इन दैनिक आदतों से अवगत रहेंगे तो आप अपनी रीढ़ की बेहतरी के लिए इनसे बच सकेंगे। दैनिक आदतों गतिविधियां न करे की जिससे रीढ़ की हड्डि पर बेवजह दबाव बने।

लोगो की खराब जीवनशैली पीठ और कमर दर्द का प्रमुख कारण है। दर्द, रोजाना की दिनचर्या प्रभावित करता है। आमतौर पर, लोग पीठ में हल्के दर्द को नजरअंदाज कर देते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह अत्यधिक काम करने या गलत मुद्रा में सोने के कारण होता है। पीठ और कमर में दर्द के कई कारण हैं जैसे चोट लगना या स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या होती है।

bavk paint

तनाव के कारण

तनाव रीढ़ की हड्डी में कमजोरी का एक बड़ा कारण है। जब आप तनाव में होते हैं तो आपकी गर्दन और पीठ की कई मांसपेशियों पर अनावश्यक दबाव पड़ता है। यदि आप ज्यादातर समय तनाव में रहते हैं, तो ये मांसपेशियां कड़ी हो जाती हैं, जिससे रीढ़ की हड्डी कमजोर हो जाती है।

अत्यधिक धूम्रपान

सिगरेट के अन्य हानिकारक दुष्प्रभावों के साथ, रीढ़ की हड्डी में कमजोरी भी एक बड़ी कमी है। निकोटीन रीढ़ को ऑक्सीजन के परिवहन को अवरुद्ध करता है। ऑक्सीजन के भूखे, रीढ़ की हड्डी खुद को ठीक करने में सक्षम नहीं है।

हाई हील्स पहनने के कारण

हील्स भी आपकी रीढ़ की हड्डी में कमजोरी का एक प्रमुख कारण हो सकता है। हाई-हील सैंडल पहनने से आपके पैरों की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है और इससे पीठ और कमर में दर्द होता है। आपकी सैंडल हल्की होनी चाहिए और हील्स बहुत अधिक नहीं होनी चाहिए।

गद्दे या बिस्तर भी हो सकती है वजह

आपकी रीढ़ की हड्डी में कमजोरी का एक मुख्य कारण आपका बिस्तर या आपका गद्दा हो सकता है। आपको हर 5 से 7 साल में गद्दा बदलना चाहिए क्योंकि इन गद्दों का जमना खत्म हो जाता है और वे ढीले हो जाते हैं। नतीजतन, सोते समय शरीर सही पोश्चर में नहीं रहता है।
ज्यादा देर एक ही जगह पर बैठे रहना

ऐसे करे बचाव
इसके अलावा लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठे रहने से रीढ़ पर अधिक दबाव पड़ता है। इसलिए आपको कमर दर्द होने की आशंका काफी बढ़ जाती है। लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठने के बजाय, हर घंटे में 5 मिनट तक टहलें ताकि आपकी मांसपेशियों में रक्त का संचार बेहतर हो। आजकल की भागदौड़ भरी लाइफस्टाइल, कम्प्यूटर पर बढ़ता काम रीढ़ की हड्डी पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है। बहरहाल 75% दर्द को कुछ महीने में ठीक किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here